28-Mar-2007

एल॰सी॰डी॰ कम्प्यूटर मॉनिटरों से भारी बचत

कम्प्यूटर के एल॰सी॰डी॰ मॉनिटरों से भारी बचत होती है, भले ही इनका मूल्य थोड़ा ज्यादा क्यों न लगे।





पर्सनल कम्प्यूटरों का प्रचलन आरम्भ होने के समय से इनके साथ सी.आर.टी. (CRT = Cathode Ray Tube) वाले मॉनिटरों का उपयोग होता था। इस क्षेत्र में तीव्र प्रगति होने से इनकी रिजोल्यूशन क्षमता 32 बिन्दु प्रति इंच (DPI) से बढ़कर आज 108 (DPI) तक पहुँच गई। किन्तु आजकल नए समतल दृश्यपटल वाले एल.सी.डी (LCD = Liquid Crystal Display) मॉनिटरों को उपयोग तेजी से बढ़ रहा है। इनकी रिजोल्यूशन क्षमता 200 डीपीआई से भी अधिक हो गई है जिससे अत्यन्त सूक्ष्म दृश्य को भी साफ देखा जा सकता है।

आसानी से उठाकर ले जाने की सुविधा के लिए हल्के तथा कम स्थान घेरने तथा अत्यल्प विद्युत खपत आदि गुणों के कारण सर्वप्रथम एल.सी.डी मॉनिटरों का उपयोग लैपटॉप व नोटबुक कम्प्यूटरों में हुआ। इसके पश्चात आज डेस्कटॉप कम्प्यूटरों में भी उनका उपयोग धड़ल्ले से होने लगा है।

एल.सी.डी. मॉनिटरों का बाजार मूल्य अभी पुराने सी.आर.टी. मॉनिटरों की तुलना में लगभग दुगुने से भी अधिक है, किन्तु निकट भविष्य में उपभोक्ताओं की मांग में वृद्धि के मद्देनजर इनका मूल्य और सस्ता होने की उम्मीद है। फिर भी वर्तमान इन्फोसिस, सत्यम, आईबीएम, विप्रो, डीएसएल आदि सूचना प्रौद्योगिकी कम्पनियों ने अपने कार्यालयों के डेस्टकॉप कम्प्यूटरों के साथ पुराने सी.आर.टी. मॉनिटरों को बदलकर एल.सी.डी. मॉनिटरों की ही स्थापना की है। क्योंकि आरम्भिक लागत अधिक होने के बावजूद समग्र हिसाब लगाने से एल.सी.डी. मॉनिटरों से काफी बचत तथा लाभ स्पष्ट हुए हैं, जिनमें से प्रमुख निम्नवत् हैं :

कम स्थान घेरना : सी.आर.टी. मॉनिटर 3 से 4 वर्गफुट का स्थान घेरते हैं तो एल.सी.डी. मॉनिटर के लिए मात्र 2 से 4 ईंच चौड़ाई का स्थान पर्याप्त है।

स्पष्ट पाठ व चित्र : इनका रिजोल्यूशन अधिक होने के कारण अत्यन्त छोटे अक्षर, चित्र, ग्राफ और अभियान्त्रिकी डिजाइन आदि स्पष्ट देखे जा सकते हैं।

स्वास्थ्य सुरक्षा : सी.आर.टी. मॉनिटरों से विद्युत-चुम्बकीय लहरें एवं इलेक्टॉनिक विकिरण (radiation) उत्सर्जित होते हैं, जिनका मानव-स्वास्थ्य पर अत्यन्त बुरा असर पड़ता है। कम्प्यूटर पर अधिक समय काम करनेवालों की आँखों की दृश्यशक्ति जल्द खराब हो जाती हैं, उन्हें विशेष चश्मे लगाने पड़ते हैं। उनकी अन्य ज्ञानेन्द्रियों पर कुप्रभाव से वे सिरदर्द, तनाव, उच्च-रक्तचाप, स्नायुओं में दर्द व कम्पन, अपच, मस्तिष्क-तंत्रिका शोध आदि के चिर-रोगी बन भी बन सकते हैं। इनकी तुलना में एल.सी.डी. मॉनिटरों से विकिरण नगण्य होते हैं और स्वास्थ्य हानि का खतरा नहीं रहता। एक अनुमान के अनुसार इन विकिरणों के प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष प्रभाव से चिकित्सा खर्च लगभग 20 प्रतिशत बढ़ सकता है।

समतल दृश्यपटल : समतल पटल होने के कारण एल.सी.डी. मॉनिटर पर पाठ व चित्र ऐसे प्रकट होते हैं, जैसे सामने खुली पुस्तक में दिखते हैं।

वातानुकूल व्यय कम : सी.आर.टी. मॉनिटर 40 से 90 डिग्री सेंटीग्रेड ताप भी वातावरण में उत्सर्जित करते हैं, जिसके शीतलीकरण हेतु प्रति 7 से 8 कार्यघण्टों के दौरान वातानुकूलन की बाबत लगभग 6 किलोवाट अर्थात् 6 यूनिट बिजली अधिक खर्च होती है। साथ ही वातानुकूलन यन्त्रों से पैदा होनेवाले ग्रीनहाउस प्रभाव तथा हानिकर गैस से वातारवरण को नुकसान का खतरा भी कम होगा। विद्युत उत्पादन हेतु होनेवाले प्राकृतिक संसाधनों की हानि ताथा प्रदूषण फैलने के खतरों से भी बचत होगी।

विद्युत खपत में बचत : विभिन्न मॉडलों के अनुसार एल.सी.डी. मॉनिटरों में मात्र 18 से 25 वाट ही विद्युत खपत होती है जबकि सी.आर.टी. मॉनिटर हेतु 100 से 160 वाट विद्युत की जरूरत होती है, अर्थात लगभग 7-8 गुना अधिक विद्युत खपत होती है। इस प्रकार एल.सी.डी. मॉनिटरों के प्रयोग से 7-8 कार्यघण्टों के दौरान विद्युत खपत की बाबत लगभग 4.00 रु. की बचत हो सकती है।

अनुरक्षण व्यय में कमी : भारत जैसे ग्रीष्म प्रधान देश के परिवेश में सी.आर.टी. मॉनिटर अक्सर अधिक खराब होते पाए गए हैं। किसी की पिक्चर ट्यूब जल जाती है तो किसी का ई.एच.टी. यूनिट खराब हो जाता है। किसी की स्क्रीन का फोस्फोरस खराब हो जाता है। इनकी मरम्मत व पुर्जों के बदलने में भारी लागत आती है। इनकी तुलना में एल.सी.डी. मॉनिटरों के अनुरक्षण की लागत कम आती है। क्योंकि कम वोल्टेज उपयोग के कारण ये अधिक टिकाऊ होते हैं।

हालांकि नई तकनीकी होने के कारण भारत के सामान्य नगरों में एल.सी.डी. मॉनिटरों की मरम्मत हेतु अच्छे सर्विस सेंटरों का अभाव है, और अभी सिर्फ पुर्जों को बदला जा सकता है। किन्तु तेजी से बढ़ती मांग से शीघ्र ही हर स्थान पर सेवा उपलब्ध होगी।

आजकल बाजार में कई बड़े शो-रूम्स में, दुकानों में, घरों में एल.सी.डी. टीवी भी लगे हुए देखने को मिलते हैं, जो दीवारों में कैलेण्डर की तरह टंगे होते हैं। लागत अधिक होने के बावजूद इनके कुल कार्यकाल में होनेवाले प्रत्यक्ष तथा अप्रत्यक्ष खर्च का हिसाब करने पर एल.सी.डी. उपकरण अधिक सस्ते बैठते हैं। एक सामान्य कार्यालय का अनुमान निम्न तालिका में दिया गया है :-

(ब्लॉगर में फिलहाल तालिका (table) प्रविष्टि की सुविधा नहीं होने के कारण यह plain text में बदल गया है)

मद सी.आर.टी.उपकरण मद एल.सी.डी. उपकरण
प्रति एकक विद्युत खपत प्रति एकक विद्युत खपत 150 वाट x 8 घण्टे = 1.2 कि.वा. 20 वाट x 8 घण्टे = 0.16 कि.वा. x रु.3.20 प्रति यूनिट की दर से रु. 3.84 x रु.3.20 प्रति यूनिट की दर से रु. 0.51


वातानुकूलन (A.C.) हेतु विद्युत खपत वातानुकूलन (A.C.) हेतु विद्युत खपत 60 डिग्री सेंटीग्रेड सृजित ताप x 8 घण्टे 5 डिग्री सेंटीग्रेड सृजित ताप x 8 घण्टे1 कि.वा.घं./यूनिट=13 डिग्री शीतलीकरण 1 कि.वा.घं./यूनिट=13 डिग्री शीतलीकरण60-30=30/13xरु.3.20 रु.7.38 5-3=2/13xरु.3.20 रु. 0.49

कुल विद्युत व्यय रु. 8.22 कुल विद्युत व्यय रु. 1.00

विद्युत व्यय अन्तर (प्रति दिन) रु. 7.22 x 5 वर्ष x 290 कार्यदिवस प्रतिवर्ष हेतु रु.10,469.00

वर्तमान बाजार मूल्य (14") रु. 7,200.00 वर्तमान बाजार मूल्य (14") रु. 14,500.00

दोनों का अन्तर रु. 7,300.00

कुल बचत(5 वर्ष में) रु.10,469 - रु. 7,300 = रु. 3,160.00

अप्रत्यक्ष स्वास्थ्य व पर्यावरण सुरक्षा हेतु प्रतिदिन रु.1.00 x 290 दिन/प्रतिवर्षx 5 वर्ष=रु.1450 जोड़ने पर रु. 4,610.00

स्थान किराया रु.10 प्रति माह/वर्गफुट x 2 फुट (अधिक स्थान का अन्तर) x 60 महीने=रु.1200 जोड़ने पर रु. 5,810.00

उपरोक्त अनुमान के अनुसार यदि किसी बड़े कार्यालय में प्रयुक्त लगभग 250 कम्प्यूटरों के सी.आर.टी मॉनिटरों के बदले एल.सी.डी मॉनिटर लगाने पर होनेवाली बचत का हिसाब लगाएँ तो यह राशि रु.14,52,500 और लगभग 1000 कम्प्यटरों का उपयोग करनेवाले कार्यालय के लिए लगभग 50 लाख रुपये हो सकती है। और फिर स्वास्थ्य, विशेषकर आँखों की सुरक्षा का हिसाब लगाएँ तो बचत का हिसाब अनगिनत रुपये के लाभ में प्रदर्शित होगा।

(अक्षर-2004 में प्रकाशित)

7 comments:

maithily said...

हरीराम जी, बहुत प्यारा लिखा है आपने.
एलसीडी मानीटर और भी सस्ते हो गये हैं. पिछले सप्ताह सैमसंग 540N माडल केवल 8450 का लिया है. एलसीडी मानीटर हों तो दस कम्यूटर्स को केवल दो केवी की यूपीएस चला सकती है. यानी यूपीएस का खर्चा भी आधा. यूपीएस की बैटरी पर खर्चे को इसमें और जोड़ लीजिये.

Shrish said...

बहुत अच्छा तथा ज्ञानवर्धक लेख। इस बात में कोई शक नहीं कि एलसीडी मॉनीटर हर तरह से किफायती हैं। इसके अलावा इनकी कीमत भी अब वहनीय है।

आज से लगभग दो साल पहले इनकी कीमत ३०,००० रुपए के करीब थी। आजकल एक १७ इंच एलसीडी मॉनीटर लगभग १०,००० रुपए में उपलब्ध है जो कि इनके फायदों को देखते हुए मेरे विचार से महंगा नहीं है।

भारत जैसे ऊर्जा संकट से जूझते देश के लिए निसंदेह ये अच्छा विकल्प हैं।

अतुल शर्मा said...

बहुत अच्छी जानकारी दी है।

Dr Prabhat Tandon said...

हरिराम जी आप ने बडे मौके पर यह लेख लिखा । मै अपने कम्पयूटर को कुछ ही दिन मे अपग्रेड करने की सोच रहा हूँ और अपने एक साल पुराने C.R.T. monitor को बदल कर L.C.D. monitor को लेने का भी इरादा कर रहा हूँ, लेकिन मन सबसे अधिक दुविधा इन L.C.D. Monitor की repairing को लेकर भी है, यही सोचकर पिछले साल C.R.T. Monitor लिया था लेकिन अपनी क्लीनिक मे जगह की किल्लत को देखते हुये एक बार फ़िर से L.C.D. Monitor लेने का मन बना रहा हूँ। L.C.D. Monitor को लेकर बहुत से मेरे भ्रम तोडने के लिये धन्यवाद !
हाँ, एक गुजारिश है कि आज के दौर मे कम्पयूटर का configuration कैसा हो , इस पर भी एक लेख लिखें। Vista के आने के बाद क्या celeron इन विन्डो को झेल पायेगा, यह भी जानने की उत्सुकता है।

हरिराम Hariraama said...

डॉ. प्रभात टण्डन जी, कम्प्यूटर हार्डवेयर में अति तेजी से हो रहे विकास को देखते हुए नवीनतम उपलब्ध हार्डवेयर लेना ही लाभदायक होगा। विस्टा के लिए 2GB RAM, 64 MB VRAM वाला कम्प्यूटर भावी प्रोग्रामों को ध्यान में रखते हुए उपयुक्त होगा।

ड़ा प्रभात टन्डन said...

यह T.F.T. मानीटर और L.C.D. मानीटर मे क्या अन्तर है।

हरिराम Hariraama said...

TFT = Thin Film Transistor, जो दो काँच की प्लेटों के बीच भरे गए liquid cystal को सैण्डविच की तरह संयुक्त करती है। संक्षेप में, टीएफटी एलसीडी, एलसीडी का विकसित रूप है।