06-Feb-2010

हिन्दी बोलने पर दण्ड का इलाज

अक्सर कुछ अंग्रेजी स्कूलों में हिन्दी में बोलने पर विद्यार्थियों को अपमानित किया जाता है, दण्ड दिया जाता है, इस पर कुछ बच्चे को आत्महत्या कर इसी सन्दर्भ में कुछ समाचार छपे हैं, जिनकी कड़ियाँ निम्न हैं-- http://groups.google.com/group/hindianuvaadak/browse_thread/thread/9095a5633a7a3368?hl=hi

इस समस्या के समाधान हेतु एक सरल उपाय निम्न घटना से प्रकट होता है--

भुवनेश्वर, ओड़िशा के एक प्रसिद्ध अंग्रेजी माध्यम से स्कूल के एक प्रिंसिपल महोदय, जो ईसाई पादरी (फादर) थे, ने स्कूल में बच्चों को आपस में बातचीत हिन्दी तथा अन्य प्रान्तीय भाषाओं में करते हुए सुनकर एक घोषणा करने की पूर्वसूचना दी -- कि

"जो विद्यार्थी/शिक्षक अंग्रेजी के अलावा अन्य किसी भाषा में बातचीत करता पाया जाएगा, उसे प्रतिशब्द रु.10 का जुर्माना देना होगा।"

इसके अगले दिन अभिभावक संघ (पैरेण्ट्स एसोसिएशन) के सचिव महोदय प्रिंसिपल साहब से मिलने गए और उनसे विभिन्न विषयों पर बातचीत करने लगे, यथा- "महोदय, हमने पिछले साल आपके स्कूल को रु.50000 का दान दिलवाया था, avenue plantation के लिए, उसका क्या हुआ, रास्ते के किनारे तो एक भी पेड़ नहीं है, भयंकर गर्मी में बाहर खड़ी हमारे कारें तप कर लाल हो जा रही हैं।" प्रिंसिपल महोदय सफाई देने लगे कि "हमने पेड़ लगवाए थे, बाड़ भी बनवाई थी, लेकिन आसपास के गरीब लोग उखाड़ ले गए, बाड़ भी जलावन हेतु ले गए। इत्यादि... इत्यादि..."

बातचीत के अन्त में पैरेण्ट्स एसोसिएशन के सचिव जी ने प्रिंसिपल महोदय से कहा कि "आप रु.170/- का भुगतान मुझे तुरन्त करें।"

प्रिंसिपल महोदय ने पूछा "किसलिए?"

उन्होंने कहा कि "जुर्माने के रूप में। क्योंकि आपने बातचीत के दौरान कुल 17 शब्द हिन्दी के बोले हैं। (you spoken 17 words in Hindi)."

प्रिंसिपल महोदय का चेहरा देखने लायक था। अन्त में सचिव महोदय ने तर्क दिया कि अंग्रेजी के 0xford के शब्दकोश में भी Gherao, Yoga, .... इत्यादि सैंकड़ों शब्द हिन्दी से ज्यों के त्यों लिए गए हैं। क्योंकि इनका कोई अंग्रेजी अनुवाद उपलब्ध नहीं करा पाए अंग्रेज। इन्हें बोलने पर हरेक अंग्रेजी भाषी व्यक्ति को भारतीय हिन्दी भाषी संघ को प्रतिशब्द 10 रुपये का जुर्माने का भुगतान करना होगा, आपकी ही घोषणा के समरूप।

Oxford अंग्रेजी शब्दकोश में जितने शब्द हिन्दी के शामिल किए गए हैं, उन्हें जितने अंग्रेजी भाषी व्यक्ति उच्चारण करेंगे, बोलेंगे, हरेक व्यक्ति से प्रतिशब्द दस दस रुपये जुर्माना वसूल करके भारत संघ को दिया जाए तो कुल कितने करोड़/अरब की आय होगी, जरा हिसाब लगाएँ आप सभी .... ...

अगले ही दिन प्रिंसिपल साहब ने प्रतिशब्द हिन्दी बोलने पर दस रुपये जुर्माना वसूले जाने की घोषणा रद्द कर दी।

अतः आज ही सभी हिन्दी भाषी मिलकर "भारतीय हिन्दी भाषी संघ" का गठन कर लें।